मैक्स हॉस्पिटल ने झांसी में नेफ्रोलॉजी के लिए ओपीडी सेवाएं शुरू की

मैक्स सुपर स्पेशियल्टी हॉस्पिटल वैशाली यहां के लोगों के लिए नेफ्रोलॉजी एवं किडनी ट्रांसप्लांटेशन के निदेशक डॉ मनोज सिंघल की विशेषज्ञ परामर्श सुविधा उपलब्ध कराएगा

यह ओपीडी महीने में एक बार किडनी संबंधी शिकायतों की स्थितियों के लिए सीधे संपर्क के जरिये विशेष परामर्श पर केंद्रित होगा

झांसी : पश्चिमी उत्तर प्रदेश का अग्रणी स्वास्थ्य सेवा प्रदाता मैक्स सुपर स्पेशियल्टी हॉस्पिटल वैशाली ने नेफ्रोलॉजी एवं किडनी ट्रांसप्लांटेशन के निदेशक डॉ मनोज सिंघल की विशेषज्ञ परामर्श सेवा उपलब्ध कराने के लिए आज शहर में अपनी ओपीडी सेवा शुरू करने का एलान किया। मरीजों के घर के पास ही अच्छी स्वास्थ्य सेवा हासिल करने के मकसद से अस्पताल द्वारा मरीजों के हित में उठाया गया एक और कदम है।

यह ओपीडी खुराना हॉस्पिटल झांसी में संचालित किया जाएगा और मरीजों को सुगम तरीके से परामर्श सुविधा हासिल करने के लिए हर महीने के तीसरे रविवार को यह खुलेगा। ओपीडी सेवाएं शुरू होने से झांसी और आसपास के क्षेत्रों में रहने वाले सभी आयुवर्ग किसी भी सामाजिक आर्थिक पृष्ठभूमि के मरीज सर्वश्रेष्ठ परामर्श प्राप्त कर सकते हैं। यह अस्पताल जल्द ही पश्चिमी उत्तर प्रदेश के उन चंद अस्पतालों में शुमार हो जाएगा जो बेहतर परिणाम तथा कम से कम समय में आपरेशन को अंजाम देने के लिए रोबोटिक ओटी से लैस होगा।

शहर में किडनी संबंधी बीमारियों के इलाज के लिए एक समर्पित ओपीडी की जरूरत पर जोर देते हुए डॉ सिंघल ने कहा हमने अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी और बेहतरीन मेडिकल एवं सर्जिकल दक्षता के लिहाज से टर्शियरी केयर के तौर पर खुद को पूरी तरह स्थापित कर लिया है लेकिन हमारा फोकस दूसरे शहरों के लोगों की सेवा करने पर  है ताकि उनका स्वास्थ्य बेहतर बना रहे। हमारे केंद्र अत्याधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चरए आपरेशन थियेटर अत्यंत योग्य नर्सिंग एवं सहयोगी स्टाफ के साथ साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर के ऐसे प्रशिक्षित क्लिनिशियनों से लैस है जो देश में सर्वश्रेष्ठ माने जाते हैं। देश में डायबिटीज़ और हाइपरटेंशन के बढ़ते मामलों के कारण किडनी रोग के मामले भी बढ़ रहे हैं। किडनी खराब होने का सबसे बड़ा कारण डायबिटीज और हाइपरटेंशन को ही माना जाता है लेकिन सही समय पर डायग्नोसिस और फिर नियमित उपचार कराते रहने से इस रोग पर काबू पाया जा सकता है। देश की एक बड़ी आबादी को अच्छी स्वास्थ्य सुविधा नहीं मिल पाती है लेकिन बचाव के उपाय करने से स्वस्थ रहा जा सकता है। हमने देखा है कि किडनी की समस्याएं खास तरह की होती हैं और इसके शुरुआती चरणों में बहुत कम या नहीं के बराबर लक्षण नजर आते हैं। किडनी रोग किसी तरह की बीमारी का ही विस्तार है और एक स्वस्थ दिखने वाले व्यक्ति भी किडनी डैमेज की चपेट में आ सकता है जो बहुत तेजी से किडनी खराब हो जाने की स्थिति तक पहुंच सकता है।

मैक्स सुपर स्पेशियल्टी हॉस्पिटल वैशाली में आॅपरेशंस के उपाध्यक्ष डॉ गौरव अग्रवाल ने कहा मैक्स सुपर स्पेशियल्टी हॉस्पिटल वैशाली में हमारा प्रयास आम व्यक्ति को किडनी संबंधी समस्याओं से निजात दिलाने पर हैए इसलिए हमने नेफ्रोलॉजिस्ट यूरोलॉजिस्ट नेफ्रो ओपीडी तथा क्रिटिकल केयर नेफ्रोलॉजी के दस विशेषज्ञों की अनुभवी टीम के साथ पश्चिमी उत्तर प्रदेश में सबसे बड़ा इंस्टीट्यूट आॅफ रेनल साइंसेज स्थापित किया है। ये विशेषज्ञ एडवांस्ड डायलिसिस सेवाओं के साथ ही किडनी ट्रांसप्लांट ;लाइव और डोनर दोनों तरह केद्ध को भी अंजाम देते हैं। झांसी स्थित हमारी समग्र सेवाओं में सभी तरह के परामर्श और जांच की सुविधा उपलब्ध होगी जिससे इलाज के लिए हर तरह की सेवाएं मिल सकेंगी।

डॉ सिंघल ने कहा श्खराब लाइफस्टाइल के कारण या अन्य बीमारियों के कारण बहुत सारे लोग किडनी रोग की चपेट में आ सकते हैं इसलिए किडनी संबंधी समस्याओं की शुरुआती पहचान करा लेना सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। अब कम उम्र के लोग भी इसकी चपेट में आ रहे हैं जो एक बड़ा खतरा है। यदि स्वस्थ नजर आने वाला व्यक्ति भी नियमित जांच कराता रहे तो उसमें बीमारी की गंभीर अवस्था में पहुंचने की आशंका को कम किया जा सकता है। इसके अलावा इस तरह की बीमारियों से पीड़ित लोगों को ओपीडी से बहुत फायदा होगा और नियमित परामर्श मिलता रहेगा। ओपीडी से उन्हें एक शहर से दूसरे शहर तक इलाज के लिए जाने में समय और धन भी बचेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *